Confidental डाटा को हैकर से कैसे सुरक्षित रखे ?- safe data - knowledgehindi - How to create knowledge

Thursday, June 6, 2019

Confidental डाटा को हैकर से कैसे सुरक्षित रखे ?- safe data

"Confidental डाटा को हैकर से कैसे सुरक्षित रखे ?- safe data "अपने पर्सनल डाटा को हैकर्स से कैसे बचाएं? इंटरनेट की ऑनलाइन दुनिया में सुरक्षित रहने का यह सबसे महत्वपूर्ण सवाल है। अब हमारी जिंदगी में अधिकतर काम ऑनलाइन होते हैं और उसके लिए हमें पर्सनल डाटा का इस्तेमाल करना पड़ता है। हैकर हमारी जरा-सी गलती से हमारे पर्सनल डाटा को चोरी कर लेते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको पर्सनल डाटा को हैकर से बचाने की 10 बेस्ट टिप्स बता रहे हैं। आप इन्हें फॉलो करके अपने ऑनलाइन डाटा को सिक्योर रख सकते हैं। चलो जानते हैं.
Confidental डाटा को हैकर से कैसे सुरक्षित रखे ?- safe data

पिछले कुछ समय से इंटरनेट यूजर्स का डाटा चोरी होने और हैकिंग की समस्या ज्यादा ही होने लगी है। हैकर्स लोगों के अकाउंट में सेंधमारी कर उनके निजी जाटा को चुरा रहे।

ऐसे में यह सबसे बड़ा सवाल पैदा होता है कि यूजर्स अपने पर्सनल डाटा को कैसे सुरक्षित रख सकते हैं, जिससे है कर उनके डाटा को हैक नहीं कर पाए,

इस पोस्ट में हम आपको पर्सनल डाटा को सुरक्षित रखने के 10+ टिप्स, तरीके उपाय बता रहे हैं, जिन्हें खोलकर आप अपने ऑनलाइन डाटा को सेफ रख सकते हैं।

Read these posts too:    

some tips to keep your safe data from hacker.?

अगर आप चाहते हैं कि इंटरनेट आपका डाटा कोई भी हैकर एक्सेस नहीं कर पाए तो आप यहां पर बताई गई पर्सनल डाटा सिक्योरिटी टिप्स को अच्छे से पढ़ें और फॉलो करें। पर्सनल डाटा को हैकर्स से कैसे बचाएं ,
जिसके लिए मैं आपको कुछ  सलहा दे रहा हूँ ,जिसके अकॉर्डिंग हम आपने पर्सनल डाटा को काफी हद तक सेफ रख सकते है ,तो फिर जान लेते है की ऐसी कौन सी तरकीबे हे जिसके थ्रू हम आसानी से कर सकते है.
  • फिशिंग। 
  • मेल  वेयर क्या है। 
  • डोमेन स्पेलिंग चेक करे। 
  • मजबूत पासवर्ड उपयोग करे. 
  • मोबाइल aaps . 
  • अलग - अलग पासवर्ड्स पयोग करे]
  • टू - स्पेस प्रयोग करे. 

The फिशिंग : 

फिशिंग दरअसल एक फ्रॉड इमेल है, जिसकी मदद से आपसे आंकड़े मंगाए जाते हैं. यह देखने में असली जैसा ही लगता है.हैकर फिशिंग ईमेल के जरिये आपको यह भरोसा दिलाने की कोशिश करता है कि वह आपके फायदे के लिए बैंक एकाउंट की जानकारी या अन्य आंकड़े मंगा रहा है. 

मसलन आपके बैंक की तरफ से एक ईमेल आता है जिसमें कहा जाता है कि आपका डेबिट कार्ड रद हो गया है और कार्ड नंबर या आधार नंबर बताने पर ही आपको नया कार्ड जारी किया जायेगा. आपको लग सकता है कि बैंक ने ही यह जानकारी आपसे मांगी है, लेकिन यह हैकर हो सकता है.

चोरी कैसे होती है _

फिशिंग ईमेल में एक लिंक होता है जिस पर आपको क्लिक कर नकली वेब पेज पर ले जाया जाता है. अगर आप उनके झांसे में आ गए तो आप वहां अपने एकाउंट की जानकारी दर्ज कर देते हैं और यह हैकर के सर्वर में चला जाता है. इसके बाद हैकर इन जानकारियों का इस्तेमाल कर आपके बैंक खाते या क्रेडिट कार्ड से रकम उड़ा सकता है. दूसरा तरीका यह है कि आपको ईमेल में एक अटैच मेंट भेजा जाता है, जिसे डाउनलोड करने के लिए कहा जाता है. 

जैसे ही आप इसे डाउनलोड करते हैं, और खोलते हैं, आपके सिस्टम में एक मेल वेयर इंस्टाल हो जाता है. यह आपके डिवाइस और आंकड़ों तक हैकर की पहुंच बना डेटा है, जिससे वह आपके खाते को एक्सेस कर सकता है.

मेल वेयर क्या है। 

यह एक सॉफ्टवेयर है जो किसी सिस्टम की जानकारी या आंकड़े की चोरी के लिए बनाया जाता है. यह प्रोग्राम संवेदनशील आंकड़े चुराने, उसे डिलीट कर देने, सिस्टम के काम करने का तरीका बदल देने और सिस्टम पर काम करने वाले व्यक्ति पर नजर रखने जैसे एक्टिविटी करता है. आपके सिस्टम में यह प्रोग्राम कई तरीके से इंस्टाल हो सकता है.

कोई आउट डेटेड ऑपरेटिंग सिस्टम या पायरेटेड ओएस, अनजाने लिंक पर क्लिक करने, या नकली सॉफ्टवेयर इंस्टाल करने की वजह से मेल वेयर इंस्टाल हो सकता है.

मेल वेयर कितने प्रकार के होते है -

वायरस: यह किसी सॉफ्टवेयर को प्रभावित करने से लेकर सिस्टम के कामकाज पर असर डालने में सक्षम है. यह खुद को डेटा फाइल/प्रोग्राम या बूट सेक्टर की तरह बदलने में सक्षम होता है. यह कंप्यूटर के हार्ड डिस्क में जाकर फाइल/सिस्टम तक आपकी पहुंच को मुश्किल बनाता है. 

ट्रोजन: यह आपके सिक्योरिटी सिस्टम से परे जाकर बैक डोर बनाता है जिससे हैकर आपके सिस्टम पर नजर रख सकता है. यह खुद को किसी सॉफ्टवेयर की तरह दिखाता है और किसी टेम्पर्ड सॉफ्टवेयर में मिल जाता है. स्पाई वेयर: यह आपकी जासूसी करने के लिए बनाया गया है. यह खुद को बैक ग्राउंड में छिपा कर आपकी ऑनलाइन एक्टिविटी को चेक करता है. 

यह आपकी आईडी, पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड नंबर और नेट चलाने की आदत को पढ़ता है. यह कीबोर्ड, वीडियो और माइक्रोफोन आदि की चीजें रिकॉर्ड कर सकता है. की लॉगर: यह स्पाई का ही एक विकल्प है जो आपके कीवर्ड को रिकॉर्ड कर लेता है. ये लॉग्स अटैकर को भेज दिए जाते हैं. उसकी मदद से हैकर आपका पासवर्ड, चैट, क्रेडिट कार्ड नंबर या अन्य जानकारी पा लेता है.

डोमेन स्पेलिंग चेक करे। 

ऐसे बहुत सारे मामले सामने आए हैं, जब hackers ने कुछ प्रसिद्ध और पॉपुलर डोमेन नेम की स्पेलिंग में थोड़ा सा बदलाव करके यूजर्स का डाटा चुराया है।

जैसे कि, ये हैकर्स amazon की जगह amazan, google की जगह gooIe इस तरह से डोमेन की स्पेलिंग चेंज कर देते हैं। यह काम इतनी होशियारी से होता है कि यूजर को पता भी नहीं चलता है।

जब कोई यूजर उनकी वेबसाइट पर विजिट करता है तो यूजर के PC या मोबाइल में Malware Script Enter हो जाती है और उसके जरिए हैकर System Access कर लेते हैं।

इस खतरे से बचने के लिए आपको सिर्फ इतना करना है कि जब भी आप कभी ब्राउज़र में कोई वेबसाइट ओपन करो तो उसकी Domain spelling check कर ले और साथ ही यह भी चेक कर लो कि वह साइट HTTPS के साथ ओपन हो रही है या नहीं।

अगर आपको कोई भी शक हो तो तुरंत ऐसी साइट को बंद कर दें और ब्राउजर हिस्ट्री क्लियर कर ले। अगर आपके डिवाइस में एंटीवायरस है तो तुरंत अपने डिवाइस को स्कैन कर ले।

मजबूत पासवर्ड उपयोग करे.,

सिक्योरिटी के तहत एक रिपोर्ट के अनुसार लाखों लोग अपने पासवर्ड के लिए “12345” नंबर इस्तेमाल करते हैं। सोचिए उनके अकाउंट को हैक करना कितना आसान होता है।

अधिकतर लोग ऐसा करते हैं या फिर जिन्हें डाटा चोरी होने के बारे में पता ना हो वह लोग ऐसा करते हैं। और जो भी हो यह गलत है, हमें स्ट्रांग पासवर्ड उपयोग करना चाहिए।

अपने अकाउंट के लिए मजबूत पासवर्ड बनाने में आपको सिर्फ 2 मिनट का समय लगेगा। ऑल से ना करें और मजबूत पासवर्ड बनाएं, इससे हमेशा आपका अकाउंट सिक्योर रहेगा।

वो आपको बता देना चाहता हूं कि डाटा चोरी और हैकिंग की जितनी भी प्रॉब्लम होती है उसमें से अधिकतर केस कमजोर पासवर्ड ही होता है। यानी हैकर कमजोर पासवर्ड यूज करने वाले यूजर्स पर ज्यादा फोकस करते हैं।

 मोबाइल ऑप्स :

गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर पर मौजूद सभी एप सुरक्षित नहीं होते. एक तो ये एप आपसे मोबाइल के सभी डेटा तक पहुंच की परमिशन मांगते हैं जिससे हैकर आपकी सारी जानकारी चुरा सकता है और दूसरे मैसेज/मीडिया फाइल तक पहुंच होने से यह आपकी गोपनीय जानकारी भी सार्वजानिक कर सकता है.

 यह सभी अनुमति किसी एप्लीकेशन को ना देने के प्रयास करें एकाउंट एक्सेस:इससे आपके गोपनीय आंकड़े सुरक्षित रहेंगे. इनमें ईमेल और कॉन्टैक्ट लिस्ट शामिल है. एसएमएस की इजाजत: यह प्रीमियम रेट वाले नंबर पर एसएमएस भेजने से रोकेगा और मोबाइल में आपका बैलेंस बना रहेगा. माइक्रोफोन तक पहुंच: इससे आपकी बातचीत रिकॉर्ड की जा सकती है. 

डिवाइस एडमिन परमिशन: इससे हैकर दूर बैठकर भी आपके डिवाइस को कंट्रोल कर सकता है. वह आपके कामकाज पर नजर रखने और सभी आंकड़े उड़ा देने जैसी हरकत भी कर सकता है. कॉन्टैक्ट्स:हैकर इसकी चोरी कर आपके जानने वालों को तंग कर सकता है, या यह आंकड़े बेच सकता है.

अलग -अलग पासवर्ड उपयोग करे : 

हम में से अधिकतर लोग अपने अधिकतर ऑनलाइन अकाउंट के लिए एक जैसा ही पासवर्ड उपयोग करते हैं। इसका मतलब अगर है कर्ज को आपके किसी एक अकाउंट की डिटेल मिल जाए तो वह आपके सारे अकाउंट को हैक कर सकता है।

अपने सभी ऑनलाइन अकाउंट के लिए सेम पासवर्ड उपयोग करना ठीक वैसा ही है जैसे अपने घर के सारे कमरों के लिए एक ही ताली का इस्तेमाल करना।

इस खतरे से बचना बहुत ही आसान है। आपको अपने हर एक अकाउंट के लिए अलग-अलग पासवर्ड इस्तेमाल करना है। इससे अगर कोई आपके किसी एक अकाउंट को एक्सेस कर भी लेता है।

तो वो फिर भी आपके बाकी अकाउंट को एक्सेस नहीं कर पाएगा और आपके एक अकाउंट के सिवा बाकी सभी अकाउंट का डाटा चोरी होने से बच जाएगा।

अगर आपको अलग-अलग पासवर्ड याद नहीं रहते हैं तो आप अलग-अलग अकाउंट्स के पासवर्ड को मैनेज करने के लिए पासवर्ड मैनेजर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

टू -स्टेप वेरिफिकेशन ानाब्ले करें :

आज के समय में लगभग सभी वेबसाइट, फोरम, एप और सोशल मीडिया साइट्स 2 step verification सेवा प्रदान करती है। इससे आपके अकाउंट पर लॉगइन करने के लिए OTP Password की जरूरत होती है।
और OTP पासवर्ड सिर्फ आपके मोबाइल नंबर पर आ सकता है। मतलब आप की अनुमति के बिना कोई भी आपके अकाउंट को एक्सेस नहीं कर पाएगा।

conclusion : 

जैस की फ्रेंड आपलोगो ने पोस्ट को कम्पलीट रीड कर लिया होगा तो आपको पता होगा ,जिसमे मैंने आपको इस keywords से रेलाटेड़स साडी जानकारी प्रोविएद कर दी है ,जैसे Confidental डाटा को हैकर से कैसे सुरक्षित रखे ?- safe data " अगर आपको इस कंटेंट के किसी भी पेराग्राफ को समझने में कोई समस्या हो रही यही तो ,

आप इसके लिए निचे कम्मेंट बॉक्स में जाकर अपनी इनफार्मेशन को हम तक बहु है आसानी से पंहुचा सकते /और इस तहे से हम आपकी प्रॉब्लम्स  कर सकते है ,

अगर आज का हमरा पोस्ट पसंद आया है तो आपने दोस्तों के साथ शेयर करना  ना भूले ?

No comments:

Post a Comment